एक वक़्त था जब किसी का गम जीया था हमने,
आज अपनी खुशी में पराया कर दिया है हमको.
उनकी आँखों से जो अश्क छलके भी ना थे,
उन्हे अपनी आँखों में समाया था हमने.
हमने सोचा था वो हमारी किस्मत हैं,
और इसलिए उनके हाथों की लकीरों में अपना नसीब ढूँढते थे,
हाथ वो छुड़ा गये इस तरह,
की मेरी लकीरें भी साथ ले गये
अब वीरान है ये हथेलियाँ ,
और आँखों से अश्क उनके बहते हैं.

5 thoughts on “ख़लिश

  1. Well read my first Hindi blog of yours with patience. You know how my Hindi is, so tried my best to understand what you wanted to convey, but couldn't…:) Hope to read many more and most importantly trying to understand it..:) Cheers.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s